मशीनी भाषा किसे कहते है – What is Machine Language

मशीनी भाषा (Machine Language) से आप समझ गये होगें कि ये भाषा कंप्‍यूटर या मशीनों से संवाद करने के लिये प्रयोग में आती होगी, लेकिन कैसे और कहां मशीनी भाषा (Machine Language) का प्रयाेग होता है आईये जानने की कोशिश करते हैं मशीनी भाषा किसे कहते है What is machine language –

मशीनी भाषा किसे कहते है What is Machine Language

मशीनी भाषा किसे कहते है – What is Machine Language in Hindi

जिस प्रकार मनुष्‍य को आपस में संवाद करने के लिये या निर्देश देने के लिये भाषा की जरूरत होती है उसी प्रकार कंप्‍यूटर को भी निर्देश देनेे के लिये एक भाषा की आवश्‍यकता होती है अब कंप्‍यूटर आपकी भाषा में तो निर्देश लेे नहीं सकता है कि “कंप्‍यूटर महोदय टाइप कर दो” इसलिये कंप्‍यूटर काेे निर्देश देने के लिये एक भाषा का निर्माण किया गया

मशीनी भाषा क्या है What is Machine Language

मशीनी भाषा ( Machine language ) वह भाषा होती है जिसमें केवल 0 और 1 दो अंको का प्रयोग होता है यह कंप्‍यूटर की आधारभूूत भाषा होती है जिसे कंप्‍यूटर सीधे सीधे समझ लेता है, मशीनी भाषा बायनरी कोड में लिखी जाती है जिसके केवल दो अंक होते हैं 0 और 1 चूंकि कम्प्यूटर मात्र बाइनरी संकेत अर्थात 0 और 1 को ही समझता है और कंप्‍यूटर का सर्किट यानी परिपथ इन बायनरी कोड को पहचान लेता है और इसे विधुत संकेतो ( Electrical signals ) मे परिवर्तित कर लेता है इसमें 0 का मतलब low या Off है और 1 का मतलब High या On 

निम्न स्तरीय भाषा (Low Level Language)

मशीनी भाषा ( Machine language ) को मशीनी संकेत में बदलने के लिये किसी भाषा अनुवादक ( Language Translator ) का प्रयोग नही करना होता है। इसलिये मशीनी भाषा ( Machine language ) एक निम्न स्तरीय भाषा (Low Level Language) है, वह भाषाएँ (Languages) जो अपने संकेतो को मशीन संकेतो में बदलने के लिए किसी भी अनुवादक (Translator) को सम्मिलित नही करता, उसे निम्न स्तरीय भाषा कहते है अर्थात निम्न स्तरीय भाषा के कोड को किसी तरह से अनुवाद (Translate) करने की आवश्यकता नही होती है
लेकिन मशीनी भाषा में तैयार करना बहुत कठिन है इसके दो कारण हैं – 
  • मशीनी भाषा ( Machine language ) मेंं प्रोग्राम लिखने के लिये प्रोग्रामर को मशीनी निर्देशो या तो अनेकों संकेत संख्या के रूप मे याद करना पडता था
  • और साथ ही प्रोग्रामर को कंप्यूटर के Hardware Structure के बारे मे सम्पूर्ण जानकारी भी होनी चाहिये थी
मशीनी भाषा ( Machine language ) में प्रोग्राम सुरक्षित रखने के लिये पंचकार्ड (Punch Cards) का इस्‍तेमाल किया जाता था, 1801 में जोसेफ-मेरी जैकर्ड ने सर्वप्रथम पंच कार्ड का प्रयोग किया 

मशीनी भाषा में तैयार प्रोग्राम 

चूंकि मशीनी भाषा में किसी भी प्रोग्राम को लिखना बहुत कठिन है, अगर आपको मशीनी भाषा में यानि बायनरी में लिखना हो – I LOVE MYBIGGUIDE.COM
तो आपको यह मशीनी भाषा ( Machine language ) में कुछ ऐसा लिखना होगा –

01001001 00100000 01001100 01001111 01010110 01000101 00100000 01001101 01011001 01000010 01001001 01000111 01000111 01010101 01001001 01000100 01000101 00101110 01000011 01001111 01001101

चूंकि मशीनी भाषा मे मात्र दो अंको 0 और 1 की श्रृंखला का प्रयोग होता है। अत: इसमे त्रुटि होने की सम्भावना अत्यधिक है। और प्रोग्राम मे त्रुटि होने पर त्रुटि को तलाश कर पाना बहुत कठिन है इस कारण वर्तमान में मशीनी भाषा में प्रोग्राम नहीं लिखे जाते हैं

Spread the love

Leave a Reply